शनिवार, 10 दिसंबर 2016

तीसरा वनवास

छोर हो तुम
छोर हूँ मैं
बीच मे है बह रहा संघर्ष
फिर भी हर्ष
कि स्थिर हो तुम...
मैं तो अडिग हूँ राह में
कबसे मिलन की चाह में
पर बन्द ही होता नही
संघर्ष का बहना
कि छूटता ही है नही
जीवन का यह गहना
फिर भी बनी रहती है
मुझमें प्यास
है यह आस..
कितने कभी हो दूर
तो कितने कभी हो पास
कि ख़त्म ही होता नही
यह तीसरा वनवास ।

करुणा सक्सेना

6 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 14 दिसम्बर 2016 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय दिग्विजय अग्रवाल जी..... सादर आभार।

      हटाएं
  2. अच्छा लिखती हैं । जारी रहे लेखन इसी तरह।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुखद आस्चर्य हुआ कविता पढ़कर प्रिय करुणा .. अब नियमित देखूँगी . मेरे ब्लाग भी देखना .

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार दीदी... आपकी रचनाएँ भी बहुत मनभावन होती हैं ।

      हटाएं